आरती संग्रह :: श्री गीता जी की आरती

श्री गीता जी की आरती

श्री गीता जी की आरती

करो आरती गीता जी की ।।
जग की तारन हार त्रिवेणी,स्वर्गधाम की सुगम नसेनी ।
अपरम्पार शक्ति की देनी,जय हो सदा पुनीता की ।।
ज्ञानदीन की दिव्य-ज्योती मां,सकल जगत की तुम विभूती मां ।
महा निशातीत प्रभा पूर्णिमा,प्रबल शक्ति भय भीता की ।। करो०

अर्जुन की तुम सदा दुलारी,सखा कृष्ण की प्राण प्यारी ।
षोडश कला पूर्ण विस्तारी,छाया नम्र विनीता की ।। करो० ।।
श्याम का हित करने वाली,मन का सब मल हरने वाली ।
नव उमंग नित भरने वाली,परम प्रेरिका कान्हा की ।। करो० ।।

अनमोल विचार
आरती संग्रह

शैलपुत्री (Shailputri)

शैलपुत्री

ब्रह्मचारिणी (Brahmcharini)

ब्रह्मचारिणी

चंद्रघंटा (Chandraghanta )

चंद्रघंटा

कूष्माण्डा (Kushmanda)

कूष्माण्डा

स्कन्दमाता(Sakandmata)

स्कन्दमाता

कात्यायनी (Katyayni)

कात्यायनी

कालरात्रि (Kaalratri)

कालरात्रि

महागौरी (Mahagauri)

महागौरी

सिद्धीदात्री (Sidhidatri)

सिद्धीदात्री