आरती संग्रह :: श्री केदारनाथ जी की आरती

श्री केदारनाथ जी की आरती

श्री केदारनाथ जी की आरती

शैल सुन्दर अति हिमालय, शुभ मन्दिर सुन्दरम ।
निकट मन्दाकिनी सरस्वती, जय केदार नमाम्यहम ।

उदक कुण्ड है अधम पावन, रेतस कुण्ड मनोहरम ।
हंस कुण्ड समीप सुन्दर,जय केदार नमाम्यहम ।

अन्नपूरणा सह अर्पणा, काल भैरव शोभितम ।
पंच पाण्डव द्रोपदी सह,जय केदार नमाम्यहम ।

शिव दिगम्बर भस्मधारी,अर्द्ध चन्द्र विभूषितम ।
शीश गंगा कण्ठ फिणिपति,जय केदार नमाम्यहम ।

कर त्रिशूल विशाल डमरू,ज्ञान गान विशारदम ।
मझहेश्वर तुंग ईश्वर, रुद कल्प महेश्वरम ।

पंच धन्य विशाल आलय,जय केदार नमाम्यहम ।
नाथ पावन हे विशालम ।पुण्यप्रद हर दर्शनम ।

जय केदार उदार शंकर,पाप ताप नमाम्यहम ।।

अनमोल विचार
आरती संग्रह

शैलपुत्री (Shailputri)

शैलपुत्री

ब्रह्मचारिणी (Brahmcharini)

ब्रह्मचारिणी

चंद्रघंटा (Chandraghanta )

चंद्रघंटा

कूष्माण्डा (Kushmanda)

कूष्माण्डा

स्कन्दमाता(Sakandmata)

स्कन्दमाता

कात्यायनी (Katyayni)

कात्यायनी

कालरात्रि (Kaalratri)

कालरात्रि

महागौरी (Mahagauri)

महागौरी

सिद्धीदात्री (Sidhidatri)

सिद्धीदात्री