आरती संग्रह :: श्री शाकुंभारी देवी जी की आरती

श्री शाकुंभारी देवी जी की आरती

श्री शाकुंभारी देवी जी की आरती

हरि ओं शाकुम्भर अम्बा जी,की आरती कीजो
ऐसा अदभुत रूप हृदय धर लीजो शताक्षी दयालु की आरती कीजो |
तुम परिपूर्ण आदि भवानी मां
सब घट तुम आप बखानी मां
शाकुम्भर अंबा जी की आरती कीजो
तुम्हीं हो शाकुम्भरी, तुम ही हो शताक्षी मां
शिव मूर्ति माया तुम ही हो प्रकाशी मां
श्री शाकुंभारी

नित जो नर नारी अंबे आरती गावे मां
इच्छा पूरणकीजो, शाकुम्भरी दर्शन पावे मां
श्री शाकुंभारी
जो नर आरती पढ़े पढ़ावे माँ
जो नर आरती सुने सुनावे माँ
बसे बैकुण्ठ शाकुंभारी दर्शन पावे,
श्री शाकुंभारी

अनमोल विचार
आरती संग्रह

शैलपुत्री (Shailputri)

शैलपुत्री

ब्रह्मचारिणी (Brahmcharini)

ब्रह्मचारिणी

चंद्रघंटा (Chandraghanta )

चंद्रघंटा

कूष्माण्डा (Kushmanda)

कूष्माण्डा

स्कन्दमाता(Sakandmata)

स्कन्दमाता

कात्यायनी (Katyayni)

कात्यायनी

कालरात्रि (Kaalratri)

कालरात्रि

महागौरी (Mahagauri)

महागौरी

सिद्धीदात्री (Sidhidatri)

सिद्धीदात्री