आरती संग्रह :: श्रीमद् भागवत पुराण की आरती

श्रीमद् भागवत पुराण की आरती

श्रीमद् भागवत पुराण की आरती

आरती अतिपावन पुराण की ।
धर्म – भक्ति – विज्ञान – खान की ।। टेक ।।
महापुराण भागवत निर्मल ।
शुक-मुख-विगलित निगम-कल्ह-फल ।।
परमानन्द-सुधा रसमय फल ।
लीला रति रस रसिनधान की ।। आरती०
कलिमल मथनि त्रिताप निवारिणी ।

जन्म मृत्युमय भव भयहारिणी ।।
सेवत सतत सकल सुखकारिणी ।
सुमहैषधि हरि चरित गान की ।। आरती०
विषय विलास विमोह विनाशिनी ।
विमल विराग विवेक विनाशिनी ।।
भागवत तत्व रहस्य प्रकाशिनी ।
परम ज्योति परमात्मा ज्ञान को ।। आरती०
परमहंस मुनि मन उल्लासिनी ।
रसिक ह्रदय रस रास विलासिनी ।।
भुक्ति मुक्ति रति प्रेम सुदासिनी ।
कथा अकिंचन प्रिय सुजान की ।। आरती०।

अनमोल विचार
आरती संग्रह

शैलपुत्री (Shailputri)

शैलपुत्री

ब्रह्मचारिणी (Brahmcharini)

ब्रह्मचारिणी

चंद्रघंटा (Chandraghanta )

चंद्रघंटा

कूष्माण्डा (Kushmanda)

कूष्माण्डा

स्कन्दमाता(Sakandmata)

स्कन्दमाता

कात्यायनी (Katyayni)

कात्यायनी

कालरात्रि (Kaalratri)

कालरात्रि

महागौरी (Mahagauri)

महागौरी

सिद्धीदात्री (Sidhidatri)

सिद्धीदात्री